July 21, 2017

बदलती राजनीति ओर कांग्रेस का पतन

आज राजनीति सकारात्मक  बदलाव की ओर है जनता एक साफ स्वच्छ  ओर बेदाग सरकार चाहती है ओर इस सोच की शुरुआत आज या कल नही बल्कि काफी समय पहले ही हो गई  थी  इसके लिए हमे थोड़े इतिहास के पन्नो को टटोलना होगा!

28 मई  1996 की वो दोपहर जब अटल जी की सरकार मात्र 13 दिन मे गिर गई थी तब जाते जाते अटल जी ने लोकसभाध्यक्ष को कहा था कि “अध्यक्ष महोदय एक दिन वह भी आएगा जब पूरे देश मे कमल खिलेगा ओर भारतीय जनता पार्टी का एक छत्र राज होगा “ओर आज जब 16 मई 2017 को भाजपा सरकार ने केन्द्र मे सफलतापूर्वक तीन वर्ष पूर्ण किए तो अटल जी के इन वाक्यों से यह पता चलता है कि एक अच्छा राजनीतिज्ञ होने के साथ साथ एक अच्छा ज्योतिषी होना भी जरूरी है परन्तु भाजपा की इतनी बड़ी सफलता के पीछे थोड़ा बहुत “हाथ” विपक्ष का भी है।

आज लगभग आधे हिन्दुस्तान मे भाजपा की सरकार है ओर जिस प्रकार से केन्द्र सरकार योजनाबद्ध तरीके से काम कर रही है मुझे तो ऐसा लगता है कि यह विजय रथ इतनी आसानी से नही थमेगा, परन्तु आज  जिस स्थिति मे कांग्रेस है इसकी जिम्मेदार वो कही न कही अपने आप ही है ,  कांग्रेस देश की सबसे पुरानी पार्टी होने के साथ साथ भारत की सत्ता  पर आज़ादी के बाद से 60 सालो तक राज करने वाली सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी है ! अगर कांग्रेस ईमानदारी से शासन चलाती तो सोने की चिड़िया कहे जाने वाला देश आज गरीबी और बेरोजगारी की मार न झेल रहा होता!

कोल् ब्लॉक घोटाला,आदर्श घोटाला, 2G घोटाला,बोफोर्स घोटाला,कामनवेल्थ घोटाला,सी डब्लू जी घोटाला,टाट्रा ट्रक घोटाला,एयरसेल मैक्सिस घोटाला,अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकाप्टर घोटाला और भी बहुत सारे घोटाले है जिनको गिनते गिनते आप थक जायेंगे लेकिन कांग्रेस के घोटाले समाप्त नहीं होंगे!उसके ऊपर दिग्विजय सिंह जैसे नेताओ के बड़बोलेपन ने कांग्रेस की नैया ड़ूबोने मे अहम भूमिका निभाई।

इतने बड़े अर्थशास्त्री के हाथ मे देश की कमान ओर देश मे शून्य विकास कही न कही शीर्ष नेतृत्व की विफलता को दर्शाता है ! सोनिया गांधी की खराब सेहत ओर राहुल  की नादान हरकते ,चुनाव मे मिल रही लगातार हार ,जाति के आधार पर राजनीति  काँग्रेस के आने वाले भविष्य पर सवालिया निशान खड़ा करता है ! अगर कांग्रेस राहुल गांधी मे भविष्य देखती है तो राहुल को भी नादानिया छोड़कर परिपक्वता दिखानी होगी नही तो भगवा राज का अटल जी का कथन सत्य होने मे ज्यादा समय नही बचा है।

आज कांग्रेस जैसी दयनीय स्थिति मुझे पश्चिम बंगाल मे ममता बनर्जी की भी  दिख रही है एक विशेष जाति को महत्व ओर हिन्दुस्तान मे जन्म लेने पर शर्मिन्दा होने की बात करना ममता बनर्जी की छोटी मानसिकता का उदाहरण है अगर कल को ममता बनर्जी की स्थिति कांग्रेस जैसी हो जाए तो शायद मुझे ओर आपको आश्चर्य नही करना चाहिए क्योंकि इस अंधकारमय भविष्य की ममता खुद ही जिम्मेदार है।अगर कांग्रेस भी अपना अस्तित्व बचाना चाहती है तो उसे भी बदलती राजनीति के साथ अपने आप मे बदलाव करने की जरूरत है नही तो कांग्रेस का अंत जितना भयानक होगा उसकी कल्पना करना भी मुश्किल है।

Picture Credit: India Today

Author: @sameerch123 


Disclaimer

About Guest Authors 294 Articles
News n Views is an online place for nationalists to share their opinions, information and content by way of Blogs, Videos, Statistics, or any other legal way that they feel comfortable.