October 17, 2017

भादो का महीना

🌂🌂

बीत गया  सावन  का महीना,
बोल – बम  बिन  लागें   सूना।
कदम    बढ़ाकर    धीरे – धीरे,
आ  गया  भादो  का  महीना ।

बालकृष्ण  का  जन्म  दिवस,
इसी    माह    में     आएगा ।
मटकी  फोड़ने हर कान्हा का,
अब   तो   दिल    ललचाएगा।

हरतालिका    व्रत   भी   अब,
ज्यादा   दूर   नहीं   है   भाई ।
हर    सुहागन    के    मन   में,
अभी  से ले  खुशियाँ अंगड़ाई।

लम्बोदर, गणपति, गणनायक,
इसी        माह        विराजेंगे।
ढोल – ढमाके,    झाल – म॔जीरे,
गली – गली       में      बाजेंगे।

ग्यारह  दिन  गणपति  सेवा  में,
सभी     मगन     हो     जाएँगे।
सुबह,शाम, गणपति- बप्पा  की,
आरती       सभी       सजाएंगे।

भादो     और   गणपति – बप्पा,
दोनों   साथ   में   लेंगे   बिदाई ।
कितना   पावन   है  ये   महीना,
भादो   जिसका  नाम  है  भाई ।


Poem Written by @ravi_saraogi

Pic Credit:  happyteachersdayquotes.com

About Guest Authors 325 Articles
News n Views is an online place for nationalists to share their opinions, information and content by way of Blogs, Videos, Statistics, or any other legal way that they feel comfortable.
  • Ram Arya

    रवि जी, बहुत अच्छी कविता है। भादो का आपने सुदंर वर्णन किया है।