July 23, 2017

भ्रष्टाचार ओर ‘आप’

आज से तकरीबन छः वर्ष पूर्व 16 अगस्त 2011 का वह ऐतिहासिक दिन जिस दिन पूरे देश मे भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए  एक मुहिम सी छिड़ गई थी, पहली बार हिन्दुस्तान के लोगो को किसी अभियान मे एक जुट  देखा गया था, हर शहर हर राज्य हर गाँव से लोग इस राष्ट्रीय बीमारी के इलाज मे जुट गए थे क्योकि कहते है कि” कैंसर का इलाज तो शायद हो जाए परन्तु भ्रष्टाचार का कोई इलाज नही यह हमारी नस नस मे भर चुका है ” ओर भ्रष्टाचार के  खिलाफ  यह मुहिम को देश मे चलाने वाला कोई नेता या कोई मन्त्री नही बल्कि 75 साल का  रिटायर्ड फौजी था जिनका नाम था श्री अन्ना हजारे।

उन्होंने उस समय की काग्रेस सरकार को चेतावनी दी थी कि अगर भ्रष्टाचार के खिलाफ जन लोकपाल बिल पास नही हुआ तो मै भूख हड़ताल खत्म नही करूंगा, इसके बाद तो पूरे देश मे जैसे एक क्रान्ति सी आ गयी थी लोग गली गाव शहरो मे केन्द्र सरकार के खिलाफ जोरदार तरीके से प्रदर्शन करने लगे।

इस आन्दोलन ने कांग्रेस सरकार को नाको चने चबवा दिए थे, आन्दोलन मे जो तीन बड़े नाम उभर कर सामने आए वह थे किरण बेदी ,अरविंद केजरीवाल ओर प्रशांत भूषण ,बेदी जी एक रिटायर्ड आईपीएस  ओर 2015 मे भाजपा की तरफ दिल्ली विधानसभा मे मुख्यमंत्री की उम्मीदवार भी रही थी प्रशांत भूषण  कानून की दुनिया मे एक जाना पहचाना नाम थे वही केजरीवाल उस समय आयकर विभाग मे कमिश्नर के पद पर तैनात थे।

मनीष सिसौदिया, कुमार विश्वास, योगेंद्र यादव यह कुछ और बड़े नाम थे  जिन्होंने  आन्दोलन मे बढ चढ कर हिस्सा लिया ओर अन्ना जी के साथ आन्दोलन के अंत  तक  खड़े रहे थे आन्दोलन के समाप्त होने के बाद  केजरीवाल ने अपनी राजनीतिक पार्टी बनाई जिसका नाम रखा आम आदमी पार्टी ओर इस पार्टी के मुख्य सिद्धांत ही देश मे अपना अस्तित्व खो रहे आम आदमी को मुसीबतो से उभारना ओर भ्रष्टाचार को जड़ से खत्म करना था परन्तु  पार्टी बनने के कुछ समय बाद ही किरण बेदी  ने  केजरीवाल का साथ छोड़ दिया  , फिर  2013 मे आम आदमी पार्टी ने दिल्ली मे सरकार भी बनाई लेकिन वह केवल 49 दिन ही चल पाई थी ।

2015 मे केजरीवाल  जी एक बार  फिर चुनाव मे उतरे ओर दिल्ली की जनता ने एक बार फिर  मुख्यमंत्री का ताज उनके सिर सजाया, इसी बीच योगेन्द्र यादव, प्रशान्त भूषण ने केजरीवाल पर गंभीर आरोप लगाते हुए पार्टी से किनारा कर लिया, उस समय ऐसा लगा कि शायद यह दोनो ही गलत है केजरीवाल जी भ्रष्ट नही, परन्तु अभी कुछ दिन पहले ही केजरीवाल जी के सबसे बड़े राजदार ओर दिल्ली के जल मंत्री कपिल मिश्रा के केजरीवाल पर भ्रष्टाचार के संगीन आरोप ने ताबूत मे आखिरी कील ठोकने का काम किया।

पिछले दो सालो मे दिल्ली मे नाममात्र विकास, उसके ऊपर अपनो के द्धारा भ्रष्टाचार के ऐसे संगीन आरोप । पंजाब, गोवा ओर  दिल्ली नगर निगम मे करारी शिकस्त ने आम आदमी पार्टी के ओर दिल्ली के आने वाले भविष्य की रूपरेखा तो तैयार कर दी है भविष्य जो भी हो  वह तो वक्त ही बताएगा, फिलहाल जल मंत्री के आरोपो के बाद  केजरीवाल यह जरूर कह रहे होगे कि – “हमे तो अपनो ने लूटा, गैरो मे कहा दम था ओर अपनी कश्ती तो वहा ड़ूबी जहा पानी कम था”

Author: @sameerch123

Picture Credit News18.com

Disclaimer

About Guest Authors 296 Articles
News n Views is an online place for nationalists to share their opinions, information and content by way of Blogs, Videos, Statistics, or any other legal way that they feel comfortable.